वेलेंटाईन इन बिहारी इस्टाईल

By Neha Nupar

आज वेलेंटाईन डे हैं। चलिए आपको दिखाते हैं कईसे मनाया जाता है “वेलेंटाईन इन बिहारी इस्टाईल”| सबसे पहिले त भईया हम बता दें, ई जो आपलोग वेलेंटाईन डे कहते हैं न, ई सब हमको सूट नहीं करता है, हम तो बेलेन्टाईन डे कहते हैं| हमारा हर चीज़ का अपना एगो अलगे इस्टाईल है| बात पढ़े-लिखे का हो, घुमे-फिरे का, पहिने-ओढ़े का, बोले-बतियावे का या फिर मुहब्बत करे का| अपना अलगे इस्टाईल होता है| कब्बो बिहार आओ तो डिटेल में बतायेंगे अपना इस्टाईल| बाकि इहाँ तो हम इहे बता सकते हैं कि बेलेन्टाईन दिन को भी हम अपने ही तरीका से मनाते हैं| तब्बे तो ई गाना आ गया न मार्किट में “बेलेन्टाईन डे मनायीं ए बबुआ, हम बिहारी इस्टाईल में” | आपका एकक गो दिन हमारा एकक गो महिना समझना, बाकि सब जे है से हयिये है |

वेलेंटाईन इन बिहारी इस्टाईल_PatnaBeats

शुरुआत करते हैं

नजरी दिवस :-

पहिला दिन जब “उनको” दूर से देखे, उहे बन गया अपना “नजरी दिवस”| माने जो भी कहो “इशक” की शुरुआत तो वहीं से हुई मानी जाएगी न| और फिर यही कार्यक्रम चलाते रहो जब तक दुसरका डे ना आ जाए|

नयन चार दिवस :-

खाली आप ही का नजर “उन” पर जाए त कौनो बात नहीं बना, “उनकी” नज़र भी देखे जिस दिन आपको वही हुआ आपका “नयन चार दिवस” | अब अगिला एक महिना ऊ आपको देखें और आप उनको देखें, उतने ही दूर से (उ का कहते हैं, विदाउट इंटेंसन)|

सुनिए दिवस :-

फिर पहिली बार, गलती से ही सही उ आयें और कहें “सुनिए” और आप तपाक से उनके “सुनिए” को भी गौर से “सुनने” लग जाएँ| यही तो वो दिन है जिसका अब तक इन्तेजार किये थे, और जिसका पूरी जिन्दगी सेखी बघारना है कि “पहिले उहे बोली/बोले थी/थे”| अब एक महिना उनकी हर बात उतने ही गौर से “सुनिए” तब जा के अगिला इस्टेप आएगा।

विस्वास दिवस :-

लीजिये, अब कुछ काम आईये उनके| कुछ कहें हैं वो, आपके लायक कुछ टास्क दिए हैं| कम्पलीट करिये| हाँ आप करेंगे ही, टास्क चाहे जितना भारी हो, चाहे आपके मन मुताबिक हो या ना हो| पहिला बार अपने बिस्वास से नवाजे हैं “वो”| मनाते रहिये ई दिवस एक महिना ताकि साचो बिस्वास जम जाए।

सोचन दिवस :-

दिन-रात अब उनका ही ख़याल रहने लगेगा, सोचने लगेंगे| उनके बोले हुए “शब्द” और साथ में उनका बोलने का सलीका…आए!! हाय!! क्या इस्टाईल है! क्या मिठास है शब्दों में! वाह !! मानिए कि बेहतरीन हैं वो| समझिये कि “बर्ल्ड बेस्ट” हैं वो| सोचते रहिये … एक महिना टाइम है|

कुछ-कुछ होता है दिवस :-

जी ! अब टाइम आ गया है कि कुछ-कुछ होने लगे, अर्थात् उनके सामने जाने पर शरम आने लगी है अब आपको| जाने का-का सोच डाले है| मिलेंगे तो ई कहेंगे, ऊ कहेंगे| कल्पना में उनका जवाब भी आ जाता है| लेकिन नहीं, कह नहीं पाएंगे कुछ भी, कर नहीं पाएंगे कुछ भी| शरमा रहे हैं शाब| हिचकिचा रहे हैं| अरे!!! कहीं डेरा तो नहीं गये हैं न! उनसे नहीं, उनके परिवार वालों से!! ही ही ही !! चलिए ठीक है| एक महिना इहे होगा| नकार दिवस :- जी! आपका वाला प्रेम दिवस! बेलेन्टाईन डे! आ ही गया फाइनली| दुनिया को “इश्क नहीं आसाँ” कह-कह के “इश्क” सिखाने वाले “ग़ालिब” साहब कह गये हैं “इनकार जैसी लज्ज़त इकरार में कहाँ”| तो साहब! प्रेम किये हैं, दिन-रात सोचे हैं, कल्पना में बसाए हैं, रोये हैं- हंसाये हैं, तो अब ये पूरी जिंदगी का साथी रहेगा ही न| इकरार कर दें “वो” तो प्रेम का चैप्टरवे क्लोज हो जायेगा| अब जो “इनकार” किये हैं तो हर “चेहरा” उन्हीं का नज़र आएगा| अपने आप को भी देखते रहेंगे “उन्हीं” की नज़रों से| चाहते रहेंगे कि फिर से “पहला दिवस” मना पायें| पहली बार देख पायें| माने कुल मिला के बात अब और गहरी हो जाने वाली है| मज़े मनाईये| और शुकर मनाईये “वो” अपने पास से ही मामला “रफा-दफा” कर दिए नहीं तो उहे होता जो आपको डेरवा रहा था| बधाई हो! प्रेम दिवस के इनकार दिवस की भी बधाई हो!!

Don’t Want to miss anything from us

Get Weekly updates on the latest Beats from
Bihar right in your mail.

BEAT BY

PatnaBeats Staff

Born in Bihar, brought up in India!