रामरूप मेहता

बिहार का एक क़स्बा जहाँ पहली जनवरी से ज्यादा दूसरी जनवरी का होता है इंतज़ार

~ विद्रोही  दिसंबर का महीना आते ही जहां पूरी दुनिया में नए साल का इंतजार शुरू हो जाता है, परंतु इसी धरती का एक ऐसा हिस्सा भी है, जहां लोग एक के बजाय दो जनवरी का इंतजार करते हैं. जैसे-जैसे यह दिन नजदीक आता है...