अइले दिवाली लै के जोतिया के धार | एक कविता बिहार से

 

दिवाली आ गयी है| पटाखे और खिलौने ख़रीदे जा रहे हैं| लक्ष्मी-गणेश पूजन की तैयारियाँ चल रही हैं| समाज में भिन्न-भिन्न तबके के लोग हैं| कुछ लोग इस दिन जुआ खेलने का आनंद लेते हैं वहीं इसी समाज में कुछ ऐसे लोग भी हैं जिनके पास पूजा के लिए भी धन उपलब्ध नहीं है|
दिवाली में देवी लक्ष्मी की पूजा होती है| रौशनाई की जाती है| अँधेरे को जीता जाता है| खुशियाँ मनाई जाती हैं| खासकर यह जश्न का त्यौहार है| ऐसे में यह ध्यान रखना भी जरूरी है कि आसपास कोई चेहरा उदासी में न हो| दीप हर किसी के आंगन पहुँचे तभी दिवाली सार्थक है|

पटनाबीट्स की तरफ से दिवाली की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ ‘एक कविता बिहार से’ पर प्रस्तुत है एक अंगिका रचना| कवि हैं श्री बैकुंठ बिहारी| रचना के शब्द बहुत आसान हैं और भाव भी अत्यंत स्पष्ट है| दिवाली के विशेष अवसर पर हर झोपड़ी तक उजाला पहुँचाने के संदेश के साथ आई है आज की कविता- ‘अइले दिवाली लै के जोतिया के धार’|

 

अइले दिवाली लै के जोतिया के धार

अइले दिवाली लै के जोतिया के धार,
हमरी टुटली झोपड़िया में बसै छै अन्हार|

पेटवा जरै छै हमरो दिन आरो राती,
जरी-जरी हारी जाय छै दियरा के बाती|
कहाँ से सजैवै हमें दिया के कतार,
अइले दिवाली लै के जोतिया के धार|

चान सुरूज के डेरा हमरी झोपड़िया,
सगरे दुआर झलकै एक्को नै केबड़िया|
केना के अइत लछमी हमरो दुआर,
अइले दिवाली लै के जोतिया के धार|

कहियो ते लछमी फेरती नजरिया,
आँखो के जोत गेलै जोहतें डगरिया|
भेलै उमरिया चालिसो के पार,
अइले दिवाली लै के जोतिया के धार|

साथैं दलिदरा के बितलै उमरिया,
हेनो कि तोड़ली नै जाय नेह-डोरिया|
मिली-जुली रहबै की आबे दोनों यार,

अइले दिवाली लै के जोतिया के धार|

Comments

comments