बिहारी ही बिहार का करेंगे विकास






बिहार का विकास बिहारियों के द्वारा ही हो सकता है। आपकी देखभाल अन्य कोई व्यक्ति नहीं कर सकता है क्योंकि उनमें से प्रत्येक के अपने हित हैं। यदि आप अपने हित की रक्षा नहीं करेंगे तो आपके बचाव के लिये कोई भी आगे नहीं आएगा। अतः बिहार को बिहारियों के द्वारा ही सहायता प्राप्त हो सकती हैं और उन्ही के द्वारा इसका विकास हो सकता है। बिहार के किसानों को अन्य किसानों की तुलना में कम मूल्य मिलते हैं क्योकि बिहार के किसानों की अपेक्षा बिचौलियों के पास उन्नत वैज्ञानिक तरीके उपलब्ध हैँ। हमें इसपर ध्यान देना चाहिए। हमें पारदर्शी बनना चाहिए। किसी भी प्रकार से केवल आलोचना ही करने के अवसर नहीं खोजने चाहिए। हमें सकरात्मक रवैया अपनाना चाहिये। प्रयास यह होना चाहिए की कुछ आच्छा हो। साथ ही यह देखना उचित होगा की निकट भविष्य में बिहार क्या प्रगति कर सकता है अथवा की क्षेत्रों पर अधिक ध्यान देने की आवश्यक्त है। बिहार में जो लोग ऊँचे ओहदों पर काम कर रहे हैं, जिनकी आवाज़ सुनी जाती है, अगर वे बिहार की सही तस्वीर पेश करेंगे तो बिहार एक शानदार भविष्य की तरफ अग्रसर होगा। बिहार की इस दशा के लिए हम सभी जिम्मेदार है। हर एक व्यक्ति अपनी जिम्मेदारी दूसरे पर थोप रहा है की साहब , हम तो ठीक हैं लेकिन नौकरशाही ही ठीक नहीं है। नौकरशाही कहती है की मैं तो ठीक ठाक से काम करना चाहती हूँ लेकिन राज्य सरकार की निति ठीक नहीं है। इसी तरह जो प्रबुद्ध जन हैं वे कहते हैं की हम क्या करे , अनपढ़ लोग सत्ता में चले जाते हैं। उसी तरह पत्रकार कहते है की जो घटनाये घटती हैं उसी को हम लिखते हैं। मेरा कहना यह है की जो व्यक्ति जिस क्षेत्र में लगा हुआ है, उसको अपनी जिम्मेदारी का बोध हो जाये, अपनी जिम्मेदारी दूसरे पे ना थोपे तभी बिहार का विकास हो सकता हैं।

 

Comments

comments