एक गर्भवती के मन की उथल – पुथल को दर्शाती एक कविता बिहार से

बिहार की लेखनी हर वक्त और दौर में अपनी पहचान बनाने में कामयाब रही है। कविता को आज के दौर में नये तरीकों से लिखा जाना और समाज के सोच पर कटाक्ष करना लेखनी द्वारा लाया जा रहा बदलाव है। वैसे ही आज 'एक कविता बिहार स...

साहित्यकार, नाटककार, अभिनेत्री और कैंसर पर फ़तेह पाने वाली विभा रानी की प्रेरणात्मक कहानी

"किसी भी रचनाकार, चाहे वह कोई कवि-कहानीकार हो या नाटककार, उसका काम निष्कर्ष देना नहीं होता। वह कई स्तरों पर विषय को विश्लेषित करते हुए एक ऐसे बिंदु पर पहुंचता है कि लगे मानो वह कोई संदेश देना चाहता है, लेकिन यह...
2 Ghumakkar

बिहार – कुछ ऐसा दिखा हमें | दो – घुमक्कड़

बिहार - एक ऐसा राज्य जहाँ हम-दोनों ने जन्म तो लिया था, परंतु उसे जाना नहीं था। इतिहास के पन्नों से लेकर लोगों की जुबानी बस इसके इतिहास से रुबरु होते आ रहे थे। परंतु हम घुमक्कड़ जो सिर्फ और सिर्फ वर्तमान को जी...
satyam verma

ज़िन्दगी के आपाधापी की खामियां गिनाती राजेश कमल की ‘एक कविता बिहार से’

राजेश कमल का जन्म सहरसा में हुआ और फ़िलहाल पटना में रहते हैं। समाज से काफ़ी जुड़े होने के कारण उनकी कविताओं में प्रेम, समाज, देश, राजनीति के मानवीय भावनाओं का समावेश दिखता है। समकालीन परिस्थितियों को राजेश शब्दों ...