इतिहास के पन्नों में बनता बदलता पटना | निवेदिता शकील की ज़ुबानी

पाटलिपुत्र से अज़ीमाबाद से पटना तक के सफर में ये शहर कितने ही बदलावों, आंदोलनों, विचारधाराओं और कला एवं संस्कृति का गढ़ रहा है। अतीत से अब तक के इस सफर और इस सफर के तमाम पड़ावों की तस्वीर निवेदिता शकील शब्दों के ज़रिये खिंच रही है अपने इस “पटना, ओह मेरा पटना” श्रृंखला की दूसरी कड़ी के ज़रिये।

ओह पटना, मेरा पटना …२

~निवेदिता
पटना मेरे लिए ईट और गारे मिट्टी से बना एक शहर नहीं है . पटना मेरे लिए धडकता हुआ दिल है . जिसके सीने में जाने कितने राज दफ़न हैं . मेरे सपने, मेरी आवारगी , मेरी मुहब्बत और मेरे संघर्षो के दिनों की यादों से लबरेज़ ये शहर हमारा ही तो है . इसी शहर ने जिन्दगी को देखना सिखाया . इसी शहर ने दर्द दिए और दर्द पर मरहम लगाया .जब कभी मेरा मन उचाट होता मैं गंगा के किनारे बैठ जाती . दुनिया के शोर से परे , अपनी रौ में बहती रहती .गर्मी के दिनों में पानी की खोज में हिमालय के परिंदे जाने कितने देशों से उड़कर आते . धोबन चिड़िया , पहाड़ी मैंना, लाल चोंच वाला गुल , नीले रंग के नूरपोश सब आते . उनदिनों गंगा का पानी इतना मीठा था कि परिंदे दूर दूर से पानी पीने आते . पटना ऐसा ही है . इसकी संस्कृति , इसका इतिहास अलग-अलग रंगों से भरा हुआ .
जो लोग पटना का इतिहास जानते हैं उन्हें पता है की पटना पर बंगालियों , सिखों . मुसलमानों , जैन , बुद्ध और ईसाई संस्कृति का गहरा असर रहा है . शुरू में लोग पटना को अजिमाबाद के रूप में जानते थे . मुगल बादशाह औरंगजेब ने अपने प्रिय पोते मुहम्मद अज़ीम के अनुरोध पर 1704 में, शहर का नाम अजीमाबाद कर दिया, पर इस कालखंड में नाम के अतिरिक्त पटना में कुछ विशेष बदलाव नहीं आया। अज़ीम उस समय पटना का सूबेदार था। मुगल साम्राज्य के पतन के साथ ही पटना बंगाल के नबाबों के शासनाधीन हो गया..1912, में बंगाल के विभाजन के बाद, पटना उड़ीसा तथा बिहार की राजधानी बना। पटना की साझी सांस्कृतिक विरासत देखना हो तो बेगू हज्जाम की मस्जिद ‘पत्थर की मस्जिद – शेरशाह की मस्जिद , पादरी की हवेली और सबसे पुराना हरमंदिर साहेब, (पटना सिटी )क़िला हाउस (जालान हाउस) ) महावीर मन्दिर को देखें .

Old photo of Gurudwara Har Mandir Sahib

 

हम जानते है शहर सिर्फ इमारतों से नहीं बनता . शहर तो लोगों से बनता है . आप अगर किसी शहर को जानना चाहते हैं तो सबसे आसान तरीका है ये जानना कि उसमें रहने वाले लोग किस तरह काम करते हैं, किस तरह प्यार और मुहब्बत करते हैं और किस तरह मरते हैं ! हमारे लोग खूब मेहनत करते हैं , फसलें उगाते हैं , इमारतें बनाते हैं , छोटे छोटे कारखानों में काम करते हैं फिर भी हम पिछड़े हैं, गरीब हैं . ये सब कुछ इसलिए है की हम एक ऐसे समाज में जी रहे हैं जहाँ ग़रीबी और अमीरी में गहरी खायी है . इसी खायी को पाटने के लिए पटना में कई बड़े आन्दोलन हुए . राजनीतक और सांस्कृतिक आंदोलन की जमीन रही है पटना .


मुझे याद है ७४ के आंदोलन ने किस तरह पूरे देश को प्रभावित किया . मेरी उम्र ९, १ ० साल रही होगी . मेरे पिता मार्क्सवादी हैं . उनदिनों वामपंथी पार्टियाँ ७४ आन्दोलन के विरोध में थी . जिसका खामियाजा वे आज तक भुगत रहे हैं . हमारा घर राजनीति बहसों के लिए सबसे मुफीद जगह थी . सभी वाद वहां जुटते और तीखी बहसें होती . उस समय कुछ खास नहीं समझ आता पर मेरे भीतर राजनीति और कला की भूख शायद यहीं से पनपी . मेरे पिता को संगीत से गहरा लगाव है . उनदिनों पटना में दशहरा पूजा की धूम थी .. भक्ति और कला का इतना गहरा मिश्रण शायद ही कही मिले . पटना की रात ठुमरी , दादरा , यमन समेत अनेक रागों से भरी रहती . भारतीय संगीत पर मौसम का गहरा असर है . राग के गायन के ऋतु निर्धारित है। जैसे भैरव राग का गहरा सबंध शिशिर ऋतु से है हिंडोल का बसन्त से . इन सारे रागों को सुनने के लिए उनदिनों पटना से बेहतर कोई जगह नहीं थी .दरअसल यहाँ दशहरा में सांस्कृतिक कार्यक्रमों की लम्बी परम्परा रही है। इस परंपरा की शुरुआत वर्ष 1944 में मध्य पटना के गोविंद मित्रा रोड मुहल्ले से हुई थी। बड़े संगीतज्ञों के साथ-साथ बड़े क़व्वाल और मुकेश या तलत महमूद जैसे गायक भी यहाँ से जुड़ते चले गए। मुझे याद है जब पहली बार पंडित जसराज को सुन रही थी .उनकी तान से चिराग की लौ भी थर्रा गयी .उन्होंने सर उठाकर रौशन आसमान को देखा जिस पर बारहवीं शब का चाँद जगमगा रहा था . चलो गोसाई चलें ….अब चाँद निकल आया था . उनकी आवाज की मिठास में लोग झूमते रहे . अब बारी थी सितारा देवी की . उन्होंने फिरकी के मानिंद चक्कर लगाना शुरू कर दिया . उनका जूडा खुल गया और लंबे बाल शानो पर बिखर गए . बिचली सी चमक थी , गजब का लोच था बदन में . वो लट्टू की तरह घूम रहीं थीं ..जैसे जिन्दगी के मरघट पर काली नाचती हो …सब दम साधे देख रहे थे .
1950 से लेकर 1980 तक तो पटना संगीत की नगरी थी . डीवी पलुस्कर, ओंकार नाथ ठाकुर, भीमसेन जोशी, अली अकबर ख़ान, निखिल बनर्जी, विनायक राव पटवर्धन, पंडित जसराज, कुमार गंधर्व, बीजी जोग, अहमद जान थिरकवा, बिरजू महाराज, सितारा देवी, किशन महाराज, गुदई महाराज, बिस्मिल्ला ख़ान, हरिप्रसाद चौरसिया, शिवकुमार शर्मा … बड़ी लंबी सूची है। 60 वर्ष पहले पटना के दशहरा और संगीत का जो संबंध सूत्र क़ायम हुआ था वह 80 के दशक में आकर टूट-बिखर गया। मैं याद कर रही किस तरह संगीत में पूरा शहर डूबा रहता था . मध्यम मगरीबी मौसीकी की आवाज आ रही है . अब्र आलूद रात के अँधेरे में जुगनू चमक रहे हैं . मैं सुन रही हूँ …रात अँधेरी है , बादल गहरे तुम ऐसी रात में आओ ना …

Comments

comments