इस बेस्ट सेलिंग लेखक ने की पटना पुस्तक मेला में शिरक़त

ज्ञान भवन में चल रहे 24वें पटना पुस्तक मेला के तीसरे दिन बेस्ट सेलिंग नॉवेल ‘विद यू विद आउट यू‘ के लेखक प्रभात रंजन परिचर्चा के दौरान पाठकों से रूबरू हुए। किताब को मिल रही बेहतरीन प्रतिक्रिया से उत्साहित प्रभात रंजन ने कस्तूरबा मंच से किताब से जुड़े अपने अनुभव दर्शकों से साझा किए। ज्ञात हो कि प्रभात रंजन की किताब अक्टूबर महीने में दिल्ली के प्रकाशक स्टोरी मिरर ने प्रकाशित किया है। बहुत ही कम समय में ‘विद यू विद आउट यू’ अमेज़न बेस्ट सेलर बन गई। सोशल मीडिया और समाचार पत्रों में भी’ विद यू विद आउट यू’ को समीक्षकों की अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है।
परिचर्चा की कोऑर्डिनेटर अनामिका झा के दोस्ती और प्यार में अंतर्द्वंद में सवाल का जवाब देते हुए प्रभात रंजन कहा कि दोस्ती और प्यार दिल से जुड़े एक सरीखे दो निजी रिश्ते हैं जिनके बीच कई बार काफी महीन रेखा होती है, तो कई बार ये आपस में ही इतने उलझे होते हैं कि निर्दोष मन के लिए उचित निर्णय कठिन हो जाता है। कई बार आप समझ ही नहीं पाते कि आपका दोस्त कब आपका प्यार बन गया, तो कई बार आप किसी के प्यार में होते हुए भी उसे दोस्त ही मानते रहते हैं।
‘पाठक-लेखक-संवाद’ के दौरान युवा पाठिका श्रुति के किताब के विषय के सवाल का जवाब देते हुए लेखक ने कहा कि किताब एक लव ट्रायंगल है लेकिन यह फ़िल्मी नहीं है बल्कि हमारे बीच घटित होती सी कहानी है। इस कहानी के पात्र आपको अपने आस-पास हर जगह दिख जायेंगे, कुछ इस कहानी से प्रभावित दिखेंगे तो कुछ इस कहानी को प्रभावित करते दिखेंगे। जिन्हें भी मानवीय रिश्तों की विवेचना में रूचि है उन्हें यह पसंद आयेगी।
वहीं अपने अगले किताब के बारे में बताते हुए प्रभात रंजन ने कहा कि वह भारत पाकिस्तान को केंद्र में रख कर लिखी गयी प्रियंका नाम की लड़की की प्रेम कहानी है। किताब का नाम है ‘प्रियंका – एक पाकिस्तानी लड़की’ जो सम्भवतः अगले साल मार्च में आ जायेगी । यह किताब भारत पाकिस्तान के विभाजन से अब तक के दोनों देशों के संबंध और उन संबंधों से लाखों जिंदगीयों के बदलाव पर संवाद करती है। श्री प्रभात ने यह रोचक बात भी दर्शकों से साझा किया कि जिस विषय पर प्रियंका एक पाकिस्तानी लड़की लिखी गयी है हिंदी या किसी भी भारतीय भाषा में इस विषय पर अब तक नहीं लिखा गया है।
प्रभात रंजन की परिचर्चा के दौरान दर्शकों की जबरदस्त भीड़ मौजूद रही। दर्शक भी अपने पटना शहर के बेस्ट सेलिंग लेखक को उत्सुकता से सुनती रही। प्रभात रंजन के साथ सेल्फी लेने के लिए युवा पाठकों के बीच होड़ लगी रही । पाठक उनकी हालिया बेस्ट सेलर कितना विद यू विद आउट यू के प्रति पर लेखक का ऑटोग्राफ भी लेते रहे । पाठकों का नए लेखक के प्रति सहृदय स्नेह देख यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगा कि हिंदी एक नयी करवट ले रही है, जिसमे प्रभात रंजन हिंदी को एक नयी दिशा दे रहे हैं। पूरे परिचर्चा के दौरान युवा कवि अंचित , उत्कर्ष , बिहारशरीफ से आये कवि अलोक मिश्रा जहानाबाद से आये शुभम के साथ कई साहित्य प्रेमी प्रभात रंजन के परिचर्चा में शामिल रहे।

Do you like the article? Or have an interesting story to share? Please write to us at [email protected], or connect with us on Facebook and Twitter.


Quote of the day:All labor that uplifts humanity has dignity and importance and should be undertaken with painstaking excellence.” 
 ― Martin Luther King, Jr.

Comments

comments