गुटर-गुटरगूं , Gutrun Gutargun

गुटर-गुटरगूं सम्पूर्ण रूप से बिहार का सिनेमा है | अभिनेत्री अस्मिता शर्मा

मेरी माँ जो मंझौल (बेगुसराय) की हैं | उन्होंने एक बार बातों ही बातों में जिक्र किया था कि उनके गाँव में महिलायें श्रृंगारिक रूप से तैयार हो कर गाँव से बाहर खेतों या बगीचों में शौच जाती थी | कमोबेश  बदस्तूर यह...
झंडा की बोलै छै

झंडा की बोलै छै | एक कविता बिहार से

15 अगस्त को कितने प्रेम से झंडे फहराए जाते हैं, संकल्प लिए जाते हैं| लेकिन उसके बाद क्या? क्या हम उस संकल्प को पूरा करने की कोशिश करते हैं? क्या समझते हैं कि झंडा क्या कहना चाहता है? आज की कविता ‘अंगिका’ में है, ‘नन्द किशोर शर्मा’ जी ने लिखी है| इनका जन्म 1 अ...
सबसे बड़ा तिरंगा

बिहार के पूर्णिया में लहराएगा देश का सबसे लंबा तिरंगा

पूर्णिया के ऐतिहासिक रंगभूमि मैदान में इस बार स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर सबसे बड़ा तिरंगा फहराया जाएगा । यह रंगभूमि मैदान स्वतंत्रता की निशानियों में से एक है । इस भूमि पर स्वतंत्रता सेनानियों ने अंग्रेज़ों से लोहा लिया था । इस बार के 15 अगस्त के बाद इस मैदान से...
उतान भइल रे

आनन्द सबका समान भइल रे | एक कविता बिहार से

किसी भी प्रान्त से हों हम, किसी भी भाषा में बाते करते हों, कुछ भी पहनते हों, किसी भी पेशे से जुड़े हों, दिल से हमसब हिंदुस्तानी हैं| कल 15 अगस्त है| हमारी आजादी का दिन| स्वतंत्रता दिवस मनाते हुए हम झंडा फहराएँगे...
About Patna

6 things that you must know about Patna

There is something about Patna. You come here and all the images that you had previously in  mind come alive but  strangely none of them are true on ground. I expected a city half awake, full of people and everyone going for my throat. Well to be honest this w...
हमारा देश

यह जीवन क्या है? निर्झर है | एक कविता बिहार से

यह जीवन क्या है? निर्झर है, मस्ती ही इसका पानी है सुख-दुःख के दोनों तीरों से चल रहा राह मनमानी है| हर छोटे-बड़े मौके पर ‘जीवन’ का चित्र स्पष्ट दर्शाने हेतु इस्तेमाल की जानी वाली ये पंक्तियाँ क्या आपकी नज़र से भ...
जागो बीर जवान देश के

जागो बीर जवान देश के | एक कविता बिहार से

अंगिका, मैथिली की एक बोली के रूप में जानी जाई जाती है| हालाँकि इसका अपना अलग विस्तृत और समृद्ध साहित्य संसार है| पटनाबीट्स पर ‘एक कविता बिहार से’ के माध्यम से अब तक हम मैथिली, भोजपुरी, उर्दू और हिंदी की देशभक्त...
ध्वजा वंदना

दहक रही है आज भी | एक कविता बिहार से

पटनाबीट्स की ‘एक कविता बिहार से’ की कड़ियों में आप पढ़ रहे हैं देशभक्ति से ओत-प्रोत कवितायें, बिहार की भिन्न-भिन्न भाषाओं/बोलियों में| अब तक मैथिली, भोजपुरी और उर्दू की रचनाएँ आप पढ़ चुके हैं| इसी सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए आज राष्ट्रकवि श्री रामधारी सिंह दिनकर जी ...