इस बार छठ छूट न पाए | अपनी परंपरा बचाये रखने की सीख देता ये वीडियो “कबहू ना छूटी छठ”

दिवाली की रात के बाद की ही सुबह से हवाओं में हल्की ठण्ड के साथ छठ की आहट आने लगती है। चारो ओर की चहल पहल इस महापर्व के नज़दीक आने का इशारा करने लगती है। लोगों में तो उत्साह और हर्षोल्लास की लहर होती ही है इसके स...

इशारों इशारों में दिल लेने वाले | एक कविता बिहार से

शम्शुल हुदा बिहारी (जन्म: 1922, आरा ज़िला, बिहार; मृत्यु: 25 फ़रवरी, 1987) हिन्दी फ़िल्मों के प्रसिद्ध गीतकार थे।1960 के दशक में संगीतकार ओ.पी. नैयर के साथ जुड़कर इन्होंने 'रातों को चोरी-चोरी बोले मोरा कंगना', ...

‘यू नो आई हेट बिहारी पीपल’ क्या करें ऐसी सोच वाले ‘वेल एजुकेटेड’ लोगों का?

मैं डिपार्टमेंट से गुज़र रहा था कि चलते-चलते हल्की सी आवाज़ कान मे पड़ी, दो लोगों आपस में बात कर रहे थे। उनमें से एक ने किसी बात पर कहा, “यू नो आई हेट बिहारी पीपल…” उस वक़्त मेरी क्लास थी और मैं ज़ल्दी में था तो चला गया। बाद में वही व्यक्ति किसी जूनियर को देखक...