Mango Dreams | A Journey to the Roots

The English version of the review follows

Movie Review: Mango Dreams

सफर दो किस्म के होते हैं, एक जिसमें दैहिक रूप से हम दूरी तय करते हैं और दूसरा जिसमे हम दिमाग़ी तौर पर आगे बढ़ते हैं। दोनों ही तरह के सफर में मंज़िल ज़रूर होती है। हो सकता है हमें पता न हो लेकिन मंजिल तो होती है। ऐसे ही एक सफर की कहानी है “मैंगो ड्रीम्स”। पंकज त्रिपाठी और वरिष्ठ अभिनेता रामगोपाल बजाज द्वारा अभिनीत ये एक अंग्रेजी भाषा की इंडिपेंडेंट फिल्म है जिसे अमेरिका के जॉन अपचर्च ने लिखा और निर्देशित किया है। पटना फिल्म फेस्टिवल में इस फिल्म को अनुभव करने का मौका मिला।
अमित सिंह, एक रिटायर्ड डॉक्टर जो कि डिमेंशिया का मरीज़ है, वो सब कुछ भूल जाने से पहले अपनी यादों को फिर से जीना चाहता है। इस जद्दोजेहद में उसे साथ मिलता है एक ऑटो ड्राइवर सलीम का जिसके बेटे की ज़िन्दगी अमित ने बचायी थी। वो अपना क़र्ज़ उतारने के लिए अमित के सफर को पूरा करने की जिम्मेवारी उठाता है। इसी सफर की कहानी है “मैंगो ड्रीम्स”. कहानी यूँ तो एक बूढ़े आदमी के अपने जड़ों की तलाश के बारे में है लेकिन इसके साथ साथ एक और पहलु भी है इसका जिसमें देश की दो बड़ी दर्दनाक घटनाओं, partition के वक़्त के दंगों और गुजरात दंगों, की पीड़ा शामिल है।

सबसे पहले कहानी की बात करें तो जॉन का काम वाक़ई में बेहतरीन है। बिना राजनितिक बहसों में उलझे जिस संजीदगी और संवेदना से उन्होंने ऐसे विवादित मुद्दों को दिखाया है वो वाक़ई तारीफ़ के काबिल है और उनका एक विदेशी होते हुए ऐसी कहानी लिखना दिल को और भी छू जाता है। जितनी खूबसूरत ये कहानी है उतने ही खूबसूरत तरीके से उनके निर्देशन ने इसे परदे पर उतारा है। अहमदाबाद से ले कर देश के एक छोर तक के इस सफर को सीमित साधनों के बावजूद बेहतरीन ढंग से दिखाया गया है। फिल्म के दोनों मुख्य किरदारों के बीच होने वाले संवादों में कभी आपको दो पिता दिखेंगे, कभी दो पति और फिर दो इंसान। पहलु दर पहलु दो इंसानों के बीच के भेद को बख़ूबी मिटाया गया है। ये फिल्म आपको इंसानों और जमीन के टुकड़ों के बीच खींची गई लकीरों पर सवाल उठाने पर मजबूर करती है। मज़ाहिर रहीम और हमजा रहीम का स्क्रीनप्ले इस लिए काबिले तारीफ है।
ऐसी कहानी और निर्देशन को चार चाँद पंकज त्रिपाठी और रामगोपाल बजाज के अभिनय ने लगाया है। कई ऐसे सीन मिलेंगे जो आपको भीतर से झकझोर जायेंगे। एक 30-40 सेकंड्स का सीन ऐसा ही है जो शायद आपको यूट्यूब पर भी मिल जाये। वो सीन ऐसा है कि उसके गुजरने के बाद भी लंबे समय तक उसका असर रहता है। पंकज त्रिपाठी का चेहरा, उनके हाव भाव बिलकुल ही सम्मोहित करने वाले हैं। फिल्म के डायरेक्टर ने उनके बारे में कहा था कि उनका अभिनय हर भाषा बोलता है, इस दृश्य में पंकज ने उसे सही साबित कर दिया है। रामगोपाल बजाज को देखने का अवसर सिनेमा देखने वालों को ज़्यादा नहीं मिलता है और ये हमारा दुर्भाग्य है। इस फिल्म में हर उस फ्रेम में जिसमें वो हैं, नज़र बस उन पर ही टिकी रहती है। अभिनय की अनंत सीमा क्या है ये उनकी आँखों में दिखती है।
इस फिल्म पर तो बहुत लंबी बात की जा सकती है लेकिन आपके लिए इसका कोई मज़ा किरकिरा न करते हुए इतना ही कह सकता हूँ। अगर अवसर मिले तो ये फिल्म ज़रूर देखें। खासकर वो जो अपनी जड़ों से दूर हैं उन्हें ये फिल्म बेहद पसंद आएगी।

 

Movie Review: Mango Dreams

There are two kinds of journeys, one where we physically cover some distance and the other where we mentally move forward. There is one thing common to both kinds of journeys and that is the destination. There is always a destination even when we are unaware of what it is. “Mango Dreams” is the story of one such journey. It is an English Indie film starring Pankaj Tripathi and Ramgopal Bajaj. The movie is written and directed by an American independent film maker John Upchurch. I had the fortune to experience this movie in the recently concluded Patna Film Festival and I was floored by it.

Amit Singh, a retired doctor who suffers from Dementia, wants to relive his past before he forgets everything about it. In his attempt to do so he is accompanied by an auto driver Salim. Amit had saved the life of Salim’s only son and hence Salim feels gratitude towards him. He offers to drive Amit to wherever he wishes to go. “Mango Dreams” is the story of the journey that follows. Even though this is the story of an old man trying to get back to his roots but with that the other aspect of the movie concerns the two tragedies that India went through, namely the Partition riots and Gujarat riots.

Starting with the story, John Upchurch has done a tremendous job with it. The way he portrayed the tragedies with seriousness and sensitivity without tangling in the political aspects, which often happens with other movies, is commendable. And the fact that he was able to do it despite of being a foreigner really touched my heart. The direction of the movie is as beautiful  as the story. Starting From Ahmadabad and going all the way to the border of the country, the journey seems captivating in the film. He deserves appreciation for doing what he did with such limited resources that an indie film maker has. The dialogues that the two leads have as fathers, husbands and finally as two individuals wonderfully erases the difference between them that exists at the beginning of the movie This movie makes you answer the lines that have been drawn on land and among the people. The screenplay by Mazahir Rahim and Hamza Rahim deserves praise for writing it so well.

Pankaj Tripathi and Ramgopal Bajaj’s acting skills make the story and the direction even more powerful. You will find many such scenes which will strike the chords of your heart.  There is one such scene which is no longer than 30-40 seconds and you can find it on YouTube as well. That scene stays with you for a long time. Pankaj Tripathi’s face, his eyes and his mannerism is captivating. The director of the movie had said Pankaj Tripathi’s acting speaks all languages and with this scene he proves that it does indeed. Unfortunately, t hose who only watch cinema do not get much opportunity to watch Ramgopal Bajaj act. But whenever we get the chance to see his performance, it delights us. You can’t take your eyes off him in every frame that he is in. The infinite possibility of the art of acting can be seen in his eyes. His eyes express feelings which can’t be said using mere words.

I can go on and on about this movie but without spoiling it for those who haven’t seen it, I would strongly recommend that you watch this one. Especially those who long to get back to their roots will absolutely love this film.

Photo Courtesy : Google

Do you like the article? Or have an interesting story to share? Please write to us at [email protected], or connect with us on Facebook and Twitter.


Quote of the day:“It is good to have an end to journey toward; but it is the journey that matters, in the end.” 
― Ursula K. Le Guin, The Left Hand of Darkness

Comments

comments