हाँ, मैं बिहारी हूँ Photo By Bashshar Habibullah

बाहरी नहीं, बहारी हूँ | एक कविता बिहार से

पाठकों द्वारा भेजी गयी प्रविष्टियों को शामिल करने का समय है| (आप भी अपनी स्वलिखित कवितायेँ, चाहे वो किसी बोली या भाषा की हो, हमें भेज सकते हैं|) तो स्वागत करते हैं, ऐसे ही भेजी गयी इस कविता का, जो हमें श्री विक...
भूल गये क्यों साथी मेरे

भूल गये क्यों साथी मेरे | एक कविता बिहार से

स्व० राम बिलास मिश्र ‘विमल’ जी का जन्म समस्तीपुर के तिसवारा में हुआ| ये सच्चे समाजवादी नेता थे| बिहार सरकार के भवन-निर्माण विभाग में मंत्री भी रहे| लेकिन हमारे सामने उनकी एक और छवि प्रस्तुत हुई है, जो एक कवि की...
Dr. Manas Bihari Verma तेजस, डॉ मानस बिहारी वर्मा

दरभंगा का वैज्ञानिक और लड़ाकू विमान तेजस |

देश के सैन्य विमानन क्षेत्र में बड़ा आयाम तय करते हुए तेजस ने जब बेंगलुरू में उड़ान भरी, तो वहां से मीलों दूर बिहार के दरभंगा में डॉ मानस बिहारी वर्मा की आखें ख़ुशी से चमक उठी। उनका पुराना सपना साकार हो गया था। ...
तुम कहाँ हो?

तुम कहाँ हो ? | एक कविता बिहार से

1916 में गया के मैगरा गाँव में जन्में आचार्य जानकीवल्लभ शास्त्री जी बिहार की साहित्यिक शान में एक और अनमोल रत्न हैं| हिंदी साहित्य से पहले संस्कृत में लिखा करते थे| इन्होंने 2 बार पद्म पुरस्कार लेने से मना कर द...
एक आवाज़ में आवाज़ मिलाते हुए लोग| एक कविता बिहार से, photo by Bashshar Habibullah

एक आवाज़ में आवाज़ मिलाते हुए लोग | एक कविता बिहार से

“लुत्फ़ हमको आता है अब फरेब खाने में, आजमाए लोगों को रोज आजमाने में| दो घड़ी के साथी को हमसफ़र समझते हैं, किस कदर पुराने हैं, हम नये जमाने में| तेरे पास आने में, आधी उम्र गुज़री है, आधी उम्र गुजरेगी, तुझसे दूर...
आओ रानी हम ढोयेंगे पालकी

आओ रानी हम ढोयेंगे पालकी| एक कविता बिहार से

“एक कविता बिहार से” में आज आप पढ़ेंगे हिंदी काव्यजगत के उन चंद कवियों में शुमार कवि को जिनकी पहुँच आम ग्रामीण नागरिक से लेकर धनिक शहरी वर्ग तक रही है| इनके विषयों में इतनी विविधता और व्यापकता है कि हमसब कहीं-न-क...
ईद की पहली बधाई

ईद की पहली बधाई | एक कविता बिहार से

पटनाबीट्स अपने सभी पाठकों को ईद की मुबारकबाद देता है, आलम खुर्शीद साहब के शब्दों में- “नफरतों के गुबार धुल जाएँ, उल्फतों के गुलाब खिल जाएँ ईद इसबार इस तरह आए, दिल के तारों से तार मिल जाएँ|” “एक कवित...