इन सड़कों पे

इन सड़कों पे | एक कविता बिहार से

पटनाबीट्स पर "एक कविता बिहार से" में आज एंट्री ले रहे हैं निदेशक श्री नितिन चंद्रा जी। 'मिथिला मखान' बनाकर राष्ट्रीय पुरस्कार पा चुके हैं। 'देसवा' बनाकर साबित किया था इन्होंने कि भोजपुरी 'अश्लीलता' से कितनी दूर...
तीज

जानिये कुछ बातें तीज के बारे में।

४ सितम्बर को बिहार में तीज मनायी जाएगी। इसे हरितालिका तीज भी कहते हैं। छतीसगढ़ में इसे तीजा कहते हैं और नेपाली तथा हिंदी में तीज। देश के कुछ हिस्सों में कजली तीज और हरयाली तीज भी मनाई जाती है. नाम चाहे जो भी हो ...
INB Systems

बिहार के स्टार्टअप ला रहें हैं भारत मे पहली बार विंडोज 10 टीवी

INB Systems नाम की कंपनी जो एक प्रारंभिक अवस्था की व्यवसायी है बिहार के विजनरी युवाओं द्वारा स्टार्ट की गयी है जो भारत में पहली बार एक ऐसा टेलिविजन लॉंच करने जा रही है जिसमे आप टीवी के कार्यक्रम हाइ डेफ़ीनेसन (...
गली ओलंपिक , कहानी घर

लौटा बच्चों का बचपन | गली ओलंपिक | कहानी घर

28 अगस्त 2016 , कल रविवार की सुबह 7 बजे से एक बजे तक "कहानी घर" की ओर से बच्चों के जीवन मे वो बचपन जिसे 19वीं सदी मे हमलोगो ने जिया है ; उससे रू-ब-रू कराने के प्रयास मे ' कित कित पिट्टो ',गुल्ली डण्डा , लट्टू, ...
हम हैं बिहारी

हम जागे तो जाग उठा है सारा हिन्दुस्तान | एक कविता बिहार से

आलम खुर्शीद साहब, आरा से सम्बन्ध रखते हैं और उर्दू के बड़े शायरों में देश-विदेश में जाने जाये जाते हैं| शानदार गज़ल तो लिखते ही हैं, इनकी कई किताबें भी आ चुकी हैं| लेकिन इससे इतर यह कविता उन्होंने खास तौर से भे...
आज़ाद , एक कविता बिहार से

आज़ाद क्या हुए, बिलगाव में हैं उलझे | एक कविता बिहार से

खगड़िया, बिहार के निवासी कैलाश झा किंकर जी का जन्म 12 जनवरी 1962 को हुआ| ये सक्रिय कवि होने के साथ-साथ ‘कौशिकी’ नामक पत्रिका के संपादक भी हैं, कविता की 10 किताबें भी लिख चुके हैं| श्री कैलाश जी के द्वारा साझा की...