बिहार क्रिकेट

15 साल के वनवास के बाद मैदान पे उतरेगी बिहार की क्रिकेट टीम , विजय हज़ारे ट्रॉफी के लिए टीम रवाना

कभी कभी इंतज़ार की घड़ियां थोड़ी लंबी हो जाती हैं मगर लगन, मेहनत और दृढ़ता आख़िरकार उस घड़ी की सुइयों को आराम देने में कामयाब हो ही जाती हैं। कुछ ऐसा ही हाल है नवगठित बिहार क्रिकेट टीम का। गुजरात में 19 सितंबर ...
Bhartendu Harishchandra, भारतेंदु हरिश्चंद्र

पटना का प्रेस जिसके पास था भारतेंदु हरिश्चंद्र की सम्पूर्ण रचनाओं का कॉपीराइट

  भारतेंदु हरिश्चंद्र आधुनिक हिंदी साहित्य के जनक कहे जाते हैं. उन्नीसवीं सदी के उत्तरार्द्ध में उन्होंने अलग-अलग विधाओं में लेखन किया. महज पैंतीस साल की उम्र में उनकी मृत्यु हो गई लेकिन उनके समय को ...
Gandhi setu

जब भी जाता हूँ गाँव | एक कविता बिहार से

 इनका नाम मुकेश कुमार सिन्हा है । इनका जन्म 4 सितम्बर 1971बेगुसराय बिहार में हुआ है। वर्तमान में सम्प्रति केंद्रीय राज्य मंत्री भारत सरकार के प्रथम व्यक्तिगत सहायक है। इनकी एक कविता संग्रह "हमिंग बर्ड" आ चुकी...
अनु सिंह चौधरी

मैं कहीं भी रहूं, मेरी जड़े बिहार में ही हैं – अनु सिंह चौधरी

अमेजन पर कोई किताब ढूंढते ढूंढते एक किताब पर नजर पड़ी “नीला स्कार्फ”। जिज्ञासा जागी की एक स्कार्फ पर पूरी किताब में क्या लिखा होगा किसी ने। लेखिका का नाम था “अनु सिंह चौधरी”। किताब आर्डर कर दी,पढने पर बिहार की ख...
उमेश पासवान

मिलिए साहित्य अकादमी युवा पुरस्कार पाने वाला चौकीदार कवि उमेश पासवान से

पटना से, बीबीसी हिन्दी के लिए "हम नवटोली गांव के चौकीदार हैं. गांव के माहौल में जो देखते हैं, वो लिख देते हैं. कविता मेरे लिए टॉनिक की तरह है. " बातचीत के दौरान 34 साल के उमेश पासवान ये बात कई बार दोहराते हैं...