Dr Rajendra Prasad, डॉ राजेंद्र प्रसाद

जाने बिहार के स्वतंत्रता सेनानी डॉ राजेंद्र प्रसाद कैसे बने देश के पहले राष्ट्रपति

उन्होंने देश की सेवा केवल राष्ट्रपति बनकर नहीं की बल्कि उस से बहुत पहले से वो देश की आजादी के संघर्ष का सक्रिय हिस्सा थे। “जो बात सिद्धांत में गलत है वह व्यवहार में भी उचित नहीं है” -डॉ राजेंद्र प्रसाद 3 ...
DMIOA

पटना का ये संस्थान करा रहा है अमेरिकी यूनिवर्सिटी से पढ़ाई

हम भारतीयों के लिए कोई नयी बात नहीं है की हम बेहतर शिक्षा और रोजगार के बेहतर अवसरों की खातिर सात समुन्दर पार तक चले जाते हैं। क्यूंकि हमारे यहाँ अच्छी शिक्षा और अच्छे अवसर सिर्फ उन्ही को प्राप्त होते हैं जो या ...
रेखना मेरी जान, रत्नेश्वर सिंह, Ratneshwar Singh, Rekhna Meri jaan

“रेखना मेरी जान” के रत्नेश्वर कुमार सिंह से एक ख़ास बातचीत

हाल ही में अपनी किताब रेखना मेरी जान के लिए  पौने दो करोड़ का करार साइन करने वाले रत्नेश्वर जी पटना के निवासी हैं | रेखना मेरी जान उनकी उन्नीसवीं किताब है. नेशनल बुक ट्रस्ट से मीडिया पर एक किताब मीडिया लाइव छप...
Saurav Anuraj

उसे भी देख, जो भीतर भरा अंगार है साथी | एक कविता बिहार से

 उसे भी देख, जो भीतर भरा अंगार है साथी। सियाही देखता है, देखता है तू अन्धेरे को, किरण को घेर कर छाये हुए विकराल घेरे को। उसे भी देख, जो इस बाहरी तम को बहा सकती, दबी तेरे लहू में रौशनी की धार है साथी।...
sanjh

पटना के युवा कार्टूनिस्ट गौरव की दूसरी शार्ट फिल्म साँझ

आजकल की आपाधापी में एक पूरी फिल्म देखने का वक़्त हर किसी के पास नहीं होता। ऐसे में कही अनकही बातों को कम समय में आपके मोबाइल और लैपटॉप की स्क्रीन पर उभारने का काम करती हैं शार्ट फ़िल्में। ये फ़िल्में मिनटों में कई...
राइडर राकेश

राइडर राकेश, वो बिहारी जो साइकिल पे निकला है लिंग-भेद मिटाने

  गीता, तिनम्‍मा, शांति, हसीना हुसैन और राजलक्ष्‍मी. कर्नाटक के इन तेज़ाब पीडितों में से हसीना हुसैना (हरे लिबास में) के अलावा बाकी सबको उनके पतियों ने तेज़ाब में धोया. तिनम्‍मा की गोद में तीन महीने का...
अभिषेक शर्मा, ललका गुलाब

एक नाटककार, अभिनेता और आर्किटेक्ट से मुलाकात | अभिषेक शर्मा

पटना के ईस्ट बोरिंग कैनाल रोड में एक आर्किटेक्ट का ऑफिस है “प्रयोग”। वहां आर्किटेक्ट अभिषेक शर्मा जी बैठते हैं। जब पहली बार उनसे मिली थी तो कभी नहीं सोचा था उस गंभीर चेहरे के पीछे एक अभिनेता भी छुपा हुआ है। फिर...
अमित मिसिर, Lalka Gulab

भोजपुरी ही मेरी भाषा है – अमित मिसिर, डायरेक्टर ललका गुलाब

 इनसे मिलिए ! ये हैं अमित मिसिर, ठेठ भोजपुरिया. हों भी क्यों ना? आखिर डुमरांव के जो ठहरे. डुमरांव वैसा बिलकुल नहीं है जो श्रीमान चेतन भगत अपनी किताब और फिल्म में दिखाते हैं. और न ही भोजपुरी वै...

निकिता सिंह | ये बिहारी लेखिका सफलता के नए आयाम लिख रही है।

ये बिहारी लेखिका सफलता के नए आयाम लिख रही है। हाल ही में निकिता सिंह ने अपनी दसवीं नॉवेल को लांच किया है। रोमांस लिखने वाले लेखकों में निकिता सिंह एक जाना माना नाम है। २५ वर्ष की उम्र में ही १० नॉवेल लिख डाल...
तीज

जानिये कुछ बातें तीज के बारे में।

४ सितम्बर को बिहार में तीज मनायी जाएगी। इसे हरितालिका तीज भी कहते हैं। छतीसगढ़ में इसे तीजा कहते हैं और नेपाली तथा हिंदी में तीज। देश के कुछ हिस्सों में कजली तीज और हरयाली तीज भी मनाई जाती है. नाम चाहे जो भी हो ...
अश्विनी झा

बिहार के इस यूथ आइकॉन को मिलेगा अटल मिथिला सम्मान!

प्रतिभा हो या हौसला,इसका उम्र से कोई लेना देना नहीं होता। इस बात का जीता जागता सबूत हैं अश्विनी झा जो बेहद कम उम्र में मानवता की सेवा के लिए कई सम्मान पा चुके हैं। पहले वे २२ फ़रवरी को वर्ल्ड स्काउट डे के अवसर...
बिहार की धरती पर रामायण के पद्चिन्ह |

बिहार की धरती पर रामायण के पद्चिन्ह |

बिहार की धरती यूँ तो कई ऐतिहासिक घटनाओं की साक्षी रही है. पर यहाँ हम बात करेंगे रामायण की उन  घटनाओं की  जो बिहार की धरती पर हुई हैं | सर्वप्रथम हम सीता माता के जन्म की बात करेंगे, जैसा की आप सभी जानते हैं सीत...

पटना के वो दिन-यादों की कलम से।

सात साल हो गए हैं घर को छोड़े हुए। छोड़ने की वजह – पढाई ,नौकरी ,ट्रेनिंग इत्यादि । इन्ही चक्करों में एक शहर से दुसरे शहर भटकती रही हूँ। लगता है ज़िन्दगी का अच्छा ख़ासा हिस्सा बिता दिया है करियर बनाने की राह में ।...