एक बिहारी की मालदह आम से जुड़ी खास यादें

सीज़न का पहिला मालदह आम आज नसीब हुआ, भर पेट खाना खाने के बाद मालदह आम का कतरा खाने जैसा तृप्ति बस सचिन का स्ट्रेट ड्राइव ही दे पाया है, समझिये। गाड़ी का शीशा नीचे कर के पूछे की "भैय्या मालदह आम है?" पहिला जवाब आय...
बिहार की दुर्गा पूजा, Bihar, Durga Puja

घर से दूर रह रहे बिहारी को जब याद आयी बिहार की दुर्गा पूजा

दुर्गा पूजा में घर से बाहर हूँ, बड़ा अजीब लग रहा है। सुबह सुबह नींद खुलता था धूप और हुमाद के महक से और दिन भर दुर्गा सप्तशती का पाठ चालू रहता था घर में साथ में शंख, घंटी और बगल वाला पंडाल से लखबीर सिंह लक्खा का...