माहवारी , Periods, Action Media, Bihar Dialogue, Nav Astitva foundation

वूमन इश्‍यू नहीं हयूमन इश्‍यू है माहवारी, इसपर चुप्पी तोड़ने की जरूरत

माहवारी के डिबेट को फैशनेबल बनाना चाहती हैं ब्रांडेड नैपकीन कंपिनयां - अंशु गुप्ता -         ­­वूमन इश्‍यू नहीं हयूमन इश्‍यू है माहवारी, इसपर चुप्पी तोड़ने की जरूरत -          एक्‍शन मीडिया और नव अस्तित्व फाउं...

एक बिहारी की मालदह आम से जुड़ी खास यादें

सीज़न का पहिला मालदह आम आज नसीब हुआ, भर पेट खाना खाने के बाद मालदह आम का कतरा खाने जैसा तृप्ति बस सचिन का स्ट्रेट ड्राइव ही दे पाया है, समझिये। गाड़ी का शीशा नीचे कर के पूछे की "भैय्या मालदह आम है?" पहिला जवाब आय...
दीदारगंज यक्षी

क्या बिहार की मोनालिसा है दीदारगंज यक्षी ?

जिस तरह यूरोप की हर छोटी से छोटी सामान्य सी लगती संरचनाओं को भी युनेस्को (UNESCO) ने विश्व धरोहर का दर्जा दे रखा है, वैसे ही इधर की कला को भी ज़्यादा ही हवा मिल रखा है। मैं यह नहीं कह रहा कि ये चीज़ें उस स्...
Adarsh Kumar Google

कौन है गूगल से एक करोड़ का पैकेज लेने वाला बिहार का लड़का

बिहार के आदर्श कुमार को गूगल ने एक करोड़ बीस लाख रुपये सालाना वेतन पर नौकरी दी है. दिलचस्प यह है कि पटना के आदर्श के पास आईआईटी रूड़की से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री है लेकिन वह अपना करियर बतौर सॉफ़्टवेयर...